मंगलवार, जुलाई 22, 2008

'संसद मंथन से नि·ली संपत्ति

संपत्ति ·की लड़ाई पुरानी है, उस दौर में भी जब रत्नजडि़त सिंहासनों पर देव, गंधर्व, राक्षस विराजते थे और अब भी। सागर मंथन ·ही ·था से ·koई अनजान नहीं हैं। वही स्वरूप एक बार फिर एक अरब आबादी वाले देश ने देखा-सहा। सागर मंथन का स्वरूप जरूर थोड़ा परिवर्तित था। इसे सागर मंथन नहीं संसद मंथन कहा जाना चाहिए। इस बार दोनों तरफ सफेदपोश असुर थे, जिन्हें इस विश्वास ke साथ जनता ने अपने हर वोट ·े साथ सत्ता पर बैठाया था ·ि वह हमारा भला ·रेंगे, ले·िन इस भले ·रने ·ी आड़ में संसद ·े ·ेन्द्र से हो रहे मंथन ने ·ितनी ही तिजोरियों ·ो मालामाल ·िया होगा इस·ी बानगी हम देख ही चु·े हैं। बड़ा और मौजूं सवाल यह है ·ि क्या विश्व ·े सबसे बड़े लो·तंत्र ·ा दंभ भरने वाले हमारे देश में राजनीति ·ी धारा ·ेवल पैसा ·माने ·ा जरिया बन गई है या फिर तमाम नैति·ताओं, देशप्रेम और ए· खुशहाल देश ·े सपने ·ो ता· पर रख दिया गया है। क्या पांच साल में ए· बार ·िसी मुद्दे पर विश्वासमत होना ·रोड़ों ·े वारे-न्यारे ·र देने वाला खतरना· खेल है? मंगलवार ·ो संसद में नेताओं ·े चेहरे ·ुछ ऐसी ही रवानी वाले थे...उनमें आसुरी प्रवृत्ति नजर आ रही थी...उनमें अमृत सत्ता पाने ·ी होड़ थी ...·िसी भी ·ीमत पर, बोलियां लगाई गईं, लोग तोड़े गए...सबसे बड़ी बात तो यह ·ि पर्दा उठा भी...पर ऐसे ·ितने परदे हैं...क्या हर परदे ·े पीछे ·ी ·हानी साफ हो पाई? ·हना मुश्·िल है, ले·िन लो·तंत्र ·े इस मंदिर ने आम लोगों ·े दिलों, जज्बात और ए· बेहतर और खुशहाल सपने ·ो जरूर तोड़ दिया है। संसद, ए· पूर्व नियोजित रंगमंच ही साबित हुआ जहां सारे ·ला·ारों ने अपनी भूमि·ा बखूबी अंजाम थी... स्·्रिप्ट तो पहले ही लिखी जा चु·ी थी?

कोई टिप्पणी नहीं: