सोमवार, मार्च 25, 2013

अब से कुछ ही देर में...


अब से कुछ ही देर में...

अब से कुछ ही देर में
बस कुछ ही देर में
हो जाएगा एक विस्फोट
चल जाएंगी कुछ गोलियां
कुछ इस पार, कुछ उस पार से
बारूद से दहकेंगे कुछ शरीर
गंधाते रहेंगे जले—अधजले चेहरे
मरे हुए चेहरों पर भी होगा खौफ
दिल अपने सामान्य आकार से
जोर से धड़ककर हो चुका होगा बड़ा
विलाप की भी नहीं होगी कोई गुंजाइश
बस विश्लेषणों और कयासों में गुजरेगा वक्त
जारी कर दिए जाएंगे कुछ बयान
लेकिन दूर कहीं अटटाहस में
अपनी सफलता और असफलता का गुणा भाग
बस कुछ ही देर में
बस कुछ ही देर में आप इंतजार कीजिए
यह सूचना नहीं, न ही खबर
बस यह है एक चेतावनी
क्रांति खटखटा रही है दरवाजा
क्रांति आने वाली है अब से कुछ देर में।

25-3-2013 RAIPUR

1 टिप्पणी:

Rajkishor Bhagat ने कहा…

Badhiya... bahut sundar...