मंगलवार, सितंबर 15, 2015

पेटलावद के बाद

छाप दो सारी खौफनाक तस्वीरें, 
दिखा दो सारा मंजर,
लिख दो सारा दर्द
लाल स्याही से 
कायदों के लिबास में
अब खून नहीं खौला करता। 


— राकेश मालवीय

कोई टिप्पणी नहीं: