गुरुवार, जून 25, 2015

इटारसी स्टेशन का सबक

इटारसी स्टेशन पर रेलों की आवाजाही का सिस्टम जल जाने का असर यह है कि हर दिन बी​सीयों रेलगाड़ियां कैंसिल हो रही हैं। अभी तक स्थिति बहाल नहीं हो पाई है। 22 जुलाई तक का समय बताया गया है ठीक होने में। हमें ऐसा लगता रहा है कि रेलवे ड्यूटी के मामले में सबसे मुस्तैद विभाग रहा है। इसके आधारभूत कामों पर कभी उस तरह से उंगली नहीं उठाई जाती है जिस हल्केपन से हम दूसरे तंत्रों को कठघरे में खड़ा कर देते हैं। बावजूद इसके इस बड़ी घटना को गंभीरता से लिया भी जा रहा है या नहीं वह दिखाई नहीं दे रहा। बड़ी से बड़ी घटनाएं होने पर भी रेलवे को स्थिति सामान्य करने में कुछ घंटे ही लगते हैं। लेकिेन इटारसी स्टेशन पर ऐसा क्या सिस्टम है जो ठीक होने का नाम ही नहीं ले रहा। बड़ा सवाल यह है कि इतने बड़े तंत्र को क्या केवल सिंगल सिस्टम से चलाया जा रहा था, उसका बैकअप या वैकल्पिक प्लान है भी या नहीं। इतने पुराने स्टेशन का पुराना सिस्टम कहां गया। निश्चित रूप से इस घटना को एक सबक के रूप में लेना चाहिए। 

कोई टिप्पणी नहीं: